मन कस्तूरी Mann Kasturi Lyrics – Masan

Mann Kasturi Lyrics in Hindi is from the Album Masan (2015) sung by Amit Kilam. Music is composed by Indian Ocean. Lyrics penned by Varun Grover. Music Label is T-Series.

Mann Kasturi Lyrics - Masan

Mann Kasturi Lyrics in Hindi

पाट ना पाया मीठा पानी
ओर-छोर की दूरी रे
मन कस्तूरी रे, जग दस्तूरी रे
बात हुई ना पूरी रे
खोजे अपनी गंध ना पावे
चादर का पैबंद ना पावे
बिखरे-बिखरे छंद सा टहले
दोहों में ये बंध ना पावे
नाचे हो के फिरकी लट्टू
खोजे अपनी धूरी रे
मन कस्तूरी रे

उमर की गिनती हाथ न आई
पुरखों ने ये बात बताई
उल्टा कर के देख सके तो
अम्बर भी है गहरी खाई
रेखाओं के पार नज़र को
जिसने फेंका अन्धे मन से
सतरंगी बाज़ार का खोला
दरवाज़ा फिर बिना जतन के
फिर तो झूमा बावल हो के
फिर तो झूमा बावल हो के
सर पे डाल फितूरी रे
मन कस्तूरी रे…

TitleMann Kasturi Lyrics
ArtistAmit Kilam
MusicIndian Ocean
LyricsVarun Grover
AlbumMasan

Music Video of Mann Kasturi Song

For more songs lyrics stay connected with us at thelyricscollection.

(Visited 85 times, 1 visits today)